अक्टूबर 2023: बुक हॉल #1 – ऑनलाइन खरीदी गईं

अक्टूबर 2023 की खरीद 

अक्टूबर में की किताबों की खरीद की  बात की जाए तो किताबें ऑनलाइन मँगवाई गई और साथ ही बुक फेयर से ली गईं। ऐसे में 31 किताबें इस महीने संग्रह में जुड़ीं। 

चूँकि किताबें अधिक हैं तो सोचा है कि दो पोस्ट्स में इनके विषय में बताऊँगा। पहले ऑनलाइन खरीदी पुस्तकों के विषय में बताता हूँ। 

इस माह केवल अमेज़न से ही पुस्तकें मँगवाई गईं। अच्छे दाम में अमेज़न में पुस्तकें दिख जाती हैं तो लेने से खुद को रोक नहीं पाता हूँ। हालाँकि ये पता रहता है कि पढ़ना काफी देर में होगा। इस बार अमेज़न की खरीद में अच्छी बात ये थी कि पिछली बार की तरह कोई पुस्तक रिटर्न नहीं करनी पड़ी। 

चलिए देखते हैं कि कौन कौन सी पुस्तकें इस माह संग्रह का हिस्सा बनी हैं। 

अमेज़न से की खरीद

अमेज़न से इस माह 8 किताबें ही खरीदीं। इनमें से तीन तो हिंदी थीं और पाँच  अंग्रेजी थीं। यह किताबें निम्न हैं:

अक्टूबर 2023: बुक हॉल
अमेज़न से मँगवाई किताबें 


यू बिनीथ योर स्किन 

यू बिनीथ योर स्किन (You Beneath Your Skin) दमयन्ती बिसवास की लिखी पहली किताब है जो मैंने खरीदी है। एक ब्लॉग में मुझे इनके मुंबई पर केंद्रित कहानी संग्रह ब्लू मुंबई स्टोरीज (Blue Mumbai Stories) की समीक्षा पढ़ने को मिली तो वह मुझे रोचक लगी। कहानी संग्रह किंडल अनलिमिटेड में है तो इसे डाउनलोड कर लिया। फिर एक बार अमेज़न में यूँ ही विचर रहा था उनकी ये किताब अमेज़न में अच्छे खासे डिस्काउंट में मिली और मैंने इसे खरीद लिया। 

पुस्तक के विषय में:

यू बिनीथ योर स्किन ((You Beneath Your Skin)) दमयन्ती बिसवास की लिखी रोमांच कथा है। उपन्यास का घटनाक्रम दिल्ली में घटित होता है। दिल्ली में कोई है जो कि झुग्गी झोड़पियों में रहने वाली औरतों को मार रहा है। पुलिस इस सीरियल किलर को पकड़ने में नाकामयाब सिद्ध हो रही है। 

वहीं अंजली मॉर्गन एक भारतीय अमेरिकी महिला है। वो अकेले अपने बच्चे को पाल रही है। साथ ही मुंबई के पुलिस कमीशनर जतिन भट्ट के साथ काफी समय से उसका अफेयर भी चल रहा है। जब दिल्ली में होती इन हत्याओं के बीच में वह खुद को पाती है तो उसके पास जतिन के साथ मिलकर इस हत्यारे का पता लगाने के सिवा और कोई चारा नहीं बचता है। 

आखिर कातिल कौन हैं? क्या अंजलि और जतिन उसका पता लगा पाएँगे?

पुस्तक लिंक: अमेज़न

वन एंड अ हाफ वाइफ 

मेघना पंत का लिखा अभी तक कुछ पढ़ा नहीं है। यह किताब वन एंड अ हाफ वाइफ (One And A Half Wife) अच्छे डिस्काउंट में दिखी तो ले ली। अब पढ़कर ही पता चलेगा कि कैसी है। 

पुस्तक के विषय में 

अमारा उस समय चौदह साल की थी जब वो अपने माता पिता के साथ जब अमेरिका गई थी। उस समय एक अच्छी और खुशहाल ज़िंदगी का सपना उनकी आँखों में था। पर अब जब अमारा की शादी टूटने को है और वो सपना एक दूर की कौड़ी ही रह चुका है तो वह लौटकर अपने घर यानी शिमला आ गई है। 

यहाँ आधुनिक विचारों और पुरातन रूढ़ियों के बीच के द्वंद में वह खुद को फँसा हुआ पाती है। 

क्या वह खुशी उसे मिल पाएगी जिसका सपना कभी उन्होंने देखा था। 

पुस्तक लिंक: अमेज़न 

द आय ऑफ डार्कनेस 

डीन कूँट्ज (Dean Koontz) के कई उपन्यास मैंने पढ़े हैं। इस साल शायद एक भी नहीं पढ़ा। ऐसे में यह उपन्यास द आय ऑफ डार्कनेस (The Eye of Darkness) अच्छे दाम में दिखा तो लेने से खुद को रोक नहीं पाया। इस उपन्यास की खास बात ये ही कि यह पहले लेह निकॉल्स (Leigh Nichols) के लेखकीय नाम से प्रकाशित हुआ था। अब वापस डीन कूँट्ज के नाम से प्रकाशित हुआ है। 

डीन कई बार कमजोर कथानक लिख देते हैं लेकिन उन्होंने काफी अच्छे कथानक भी अपने पाठकों को दिए हैं। एक और रोचक बात है। जैसे हिंदी अपराध साहित्य में सुरेन्द्र मोहन पाठक और वेद प्रकाश शर्मा हैं उसी तरह मुझे स्टीफन किंग और डीन कूँट्ज लगते हैं। स्टीफन और कूँट्ज वैसे तो भय साहित्य लिखते हैं लेकिन जैसे कई बार वेद जी लिखते हुए कुछ ज्यादा ही फंटासी में चले जाते हैं उसी प्रकार कूँट्ज का भी हिसाब लगता है। फिर संभलता नहीं है कथानक इनसे। खैर, इस उपन्यास के विषय में मुझे खरीदने से पहले नहीं पता था। देखेंगे ये कैसा बन पड़ा है। 

पुस्तक के विषय में 

टीना वेगास के एक शो की निर्देशिका है। उसके बेटे डैनी की मृत्यु को एक साल हो चुका है। इस एक साल में वह गमजदा रही है। पर अब उसका शो प्रीमियर होने वाला है और वो अपने गम को भूल कर इस शो की तैयारियों में लगी है। पर तभी कुछ ऐसा होता है जो कि उसके दुख को वापस जिंदा कर देता है। 

टीना को एक संदेश दिया गया है। यह संदेश डैनी के कमरे के चॉकबोर्ड में दर्ज था। इस संदेश में केवल दो शब्द थे। 

‘नॉट डेड’

आखिर इन दो शब्दों का क्या अर्थ है?

इस उत्तर की तलाश टीना को एक ऐसी खौफनाक यात्रा पर ले चलेगी जो उसकी ज़िंदगी बदल देगी। 

पुस्तक लिंक: अमेज़न 

वनवासी 

लोकप्रिय साहित्य में रुचि जबसे हुई है तब से कई लेखकों के विषय में पता चला है। गुरुदत्त भी ऐसे ही एक लेखक हैं। इनके उपन्यास पढ़ने का मन था। ये उपन्यास वनवासी सही डिस्काउंट में मिला तो खरीद लिया। अब देखना है कि कैसा होगा?

पुस्तक के विषय में 

वनवासी लोकप्रिय उपन्यासकार गुरुदत्त का एकदम नई शैली में, नए कथानक में, रोमांस से भरपूर एक बहुचर्चित उपन्यास है। इसमें अपने ही देश के उन लोगों का चित्रण है जो सभ्यता-संस्कृति में हमसे इतने भिन्न हैं कि सहज विश्वास नहीं होता कि वे हमारे ही देशवासी हैं। हिंदी उपन्यासकारों में गुरुदत्त को इस उपन्यास के जरिए एक नई पहचान मिली थी। 

(उपन्यास के बैक कवर से)

पुस्तक लिंक: अमेज़न 

कोबाल्ट ब्लू 

कोबाल्ट ब्लू सचिन कुंडलर का प्रसिद्ध मराठी उपन्यास है। इसका अंग्रेजी अनुवाद मेरे पास मौजूद है। अमेज़न में हिंदी अनुवाद अच्छे डिस्काउंट में मिल रहा था तो खुद को इसे लेने से न रोक पाया। वैसे भी अन्य भारतीय भाषाओं में लिखा साहित्य मुझे हिंदी में ही पढ़ना पसंद हैं। मेरी कोशिश रहती है कि उनका हिंदी अनुवाद मौजूद हो तो उसे ही लूँ। मुझे लगता है हिंदी से मैं ज्यादा जुड़ाव महसूस करता हूँ। फिर ये अनुवाद गीत चतुर्वेदी का है तो उम्मीद भी है कि अच्छा ही होगा। 

पुस्तक के विषय में 

हुआ यूँ कि आने वाला पेइंग गेस्ट जोशी परिवार के लिए फ़ायदे का सौदा लगता है। वह तय किराए के लिए तैयार है, जब कर सके तो अपनी मदद देने को तैयार है और मिसिज़ जोशी की संस्कृति-संस्कारों में हो रहे पतन के बारे में बकबक भी मन लगाकर सुन लेता है। लेकिन वह आदमी अबूझ पहेली-सा भी है। उसके नाम के साथ कुछ और नहीं लगता। उसका कोई परिवार नहीं है, न कोई मित्र, ना ही कोई इतिहास, और तो और भविष्य को लेकर कोई योजना भी नहीं। फिर भी भाई-बहन तनय और अनुजा उससे प्यार कर बैठते हैं। वह उनके जीवन की धारा ही पलट देता है, और जब गायब होता है तो उनका दिल भी तोड़ जाता है। 

पुस्तक लिंक: अमेज़न 

मनी कथा अनंता 

काफी अच्छे डिस्काउंट में यह उपन्यास मनी कथा अनंता मिल रहा था तो ले ली। पढ़कर पता लगेगा कि निर्णय सही था या नहीं। 

पुस्तक के विषय में

सर्दी की एक रात में नशे में झूमते तीन दोस्तों को नोटों से भरा एक बैग मिलता है। इसकी ख़ुशी एक रात भी नहीं चल पाती क्योंकि उसी रात को नोटबंदी हो जाती है। अब ऐसे में जब लोग दो चार हजार रुपयों के लिए बैंक में जूतम पैजार कर रहे हों, वैसे में ये तीनों नोटों का पूरा बैग बदलने पर जूझ पड़ते हैं।

नोटबंदी की अफरा-तफरी में लोकल माफ़िया, मिनी नार्कोज और पुलिस से जूझते हुए क्या ये अपने मकसद में कामयाब हो पाएँगे? 

ये कथा नोटबंदी की नहीं बल्कि उसकी परिस्थितियों से उपजी एक कॉमिक थ्रिलर है। ये कहानी है आदमी के मन में उपजते हुए काम, क्रोध, मद, लोभ, मोह की, उस छल की जिससे ये दुनिया भरी पड़ी है।

पुस्तक लिंक: अमेज़न 

प्रिज़नर्स डाइलेमा 

विश धमीजा (Vish Dhamija) के कई उपन्यास मैंने पढे हैं और कई खरीदकर रखे हुए हैं। वो अच्छा लिखते हैं।  ऐसे में यह उपन्यास प्रिज़नर्स डाइलेमा (Prisoner’s Dilema) अच्छे दाम में मिल रहा था तो खुद को इसे लेने से नहीं रोक पाया। 

पुस्तक के विषय में

बिपिन और अनुज ने कैश से भरी वैन चोरी करने की योजना तो बनाई लेकिन उन्हें मालूम नहीं था कि वो किसके पैसे पर हाथ डाल रहे थे। ये माल दिल्ली के सबसे अमीर परिवारों में से एक का था। 
कुछ ही दिनों में वह दोनों पकड़े तो गए लेकिन पुलिस को माल न मिल पाया। 
अब केस की इंचार्ज अरफी खान के पास केवल 48 घंटे हैं। इस समय में उसे इन दो दोस्तों से कुछ भी करके सच उगलवाना है। 
वहीं इन दोनों के पास भी इतना ही समय है कि वह खुद को टूटने से बचा सकें। 
पुलिस और चोरों के बीच के इस खेल का अंत क्या होगा?

पुस्तक लिंक: अमेज़न 

मिडनाइट फ्रीवे 

मैं अक्सर नए लेखकों की तलाश में रहता हूँ। विवान शाह का यह उपन्यास मिडनाइट फ्रीवे (Midnight Freeway) अच्छे दाम में मिला तो इसे ले लिया। विवान नसीरुद्दीन शाह के बेटे हैं और एक्टर भी हैं। शायद इसने भी इस खरीद को प्रभावित किया होगा लेकिन मैं खुद को दिलासा देता हूँ कि इसमें दाम का ज्यादा योगदान था। इन्होंने और भी उपन्यास लिखे हैं। इसे पढ़कर देखेंगे वो लेने हैं या नहीं। 

पुस्तक के विषय में 

योगेश मालचंदानी की मृत्यु हो गई थी। वह एक बदनाम बिल्डर था। मृत्यु जिस तरह से हुई है उससे यही लगता है कि उसने आत्महत्या की है लेकिन उसके पास आत्महत्या का कोई कारण नहीं था। 

उसके लिए सब कुछ अच्छा जा रहा था। उसने एक बड़ी डील की थी और अभी नई गाड़ी ली थी। यह वही गाड़ी थी जिसे उसने तेजी से मुंबई वर्ली सी लिंक पर 180 की स्पीड पर चलाते हूए ठोक दिया था और दुनिया से कूच कर गया था। बस मरने से पहले उसने अपने गाड़ी के डीलर को पाँच मिस कॉल की थी। 

आखिर योगेश की मृत्यु के पीछे क्या राज था? उसने डीलर को कॉल क्यों किया था?

 

पुस्तक लिंक: अमेज़न 

*****
तो यह थी अक्टूबर में ऑनलाइन खरीदी गईं पुस्तकों की सूची। बुक फेयर से खरीदी गईं पुस्तकों के विषय में अगली पोस्ट में बताऊँगा। 
आपने इनमें से कौन सी पढ़ी हैं? आप अपनी पुस्तकें कहाँ से खरीदना पसंद करते हो? ऑनलाइन या पुस्तक मेले?

About विकास नैनवाल 'अंजान'

मैं एक लेखक और अनुवादक हूँ। फिलहाल हरियाणा के गुरुग्राम में रहत हूँ। मैं अधिकतर हिंदी में लिखता हूँ और अंग्रेजी पुस्तकों का हिंदी अनुवाद भी करता हूँ। मेरी पहली कहानी 'कुर्सीधार' उत्तरांचल पत्रिका में 2018 में प्रकाशित हुई थी। मैं मूलतः उत्तराखंड के पौड़ी नाम के कस्बे के रहने वाला हूँ। दुईबात इंटरनेट में मौजूद मेरा एक अपना छोटा सा कोना है जहाँ आप मेरी रचनाओं को पढ़ सकते हैं और मेरी प्रकाशित होने वाली रचनाओं के विषय में जान सकते हैं।

View all posts by विकास नैनवाल 'अंजान' →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *